World's First Islamic Blog, in Hindi विश्व का प्रथम इस्लामिक ब्लॉग, हिन्दी मेंدنیا کا سبسے پہلا اسلامک بلاگ ،ہندی مے ਦੁਨਿਆ ਨੂ ਪਹਲਾ ਇਸਲਾਮਿਕ ਬਲੋਗ, ਹਿੰਦੀ ਬਾਸ਼ਾ ਵਿਚ
आओ उस बात की तरफ़ जो हममे और तुममे एक जैसी है और वो ये कि हम सिर्फ़ एक रब की इबादत करें- क़ुरआन
Home » » कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) एम.पी.थ्री. में Download Quran Hindi Translation in .MP3 Format Playlist Friendly

कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) एम.पी.थ्री. में Download Quran Hindi Translation in .MP3 Format Playlist Friendly

Written By काशिफ़ आरिफ़/Kashif Arif on बुधवार, 27 अक्तूबर 2010 | बुधवार, अक्तूबर 27, 2010

आज से लगभग 14 महीने पहले मैनें आप लोगों को एक तोह्फ़ा दिया था। मैनें कुरआन का हिन्दी अनुवाद (तर्जुमा) एम.पी.थ्री. फ़ोर्मेट में  आपके सबके सामने पेश किया था । उस अनुवाद की .mp3 फ़ाइल्स में एक परेशानी थी की उनकी Playlist अपने आप नहीं बनती थी उसको बनाने के लिये काफ़ी मेहनत करनी पडती थी और सबसे ज़्यादा परेशानी मोबाइल में इस्तेमाल करने में आती थी। अलग-अलग फ़ोल्डर से फ़ाइल्स को सलेक्ट करना होता था और फ़िर उसकी playlist बनती थी। इससे काफ़ी झुंझलाहट होती थी।



पुरे एक साल की मेहनत के बाद मैनें ये सारी परेशानियां दुर कर दी हैं। मैने इस अनुवाद को सात टुक्डों ZIP File की शक्ल मे इन्टरनेट पर अपलोड किया है। इन सातों टुकडॊं को आप यहा दिये गये लिन्क के द्वारा अपने कंप्युटर मे डाउनलोड कर ले। फिर इन्हे UNZIP कर के इन सब फ़ाइल्स को एक फ़ोल्डर में कापी करे और उसके बाद फ़ोल्डर में राइट क्लिक करके ARRANGE ICONS BY > NAME पर क्लिक करे




  इसके बाद आसानी से सबको एक साथ सलेक्ट करे और आसानी से प्ले लिस्ट बना कर सुने, इस तरह से आप बिना किसी आयत और उसके अनुवाद को छोडे बगैर आसानी से पुरा कुरआन सुन और समझ सकते है।  इस्मे पहले कुरआन की आयत की तिलावत कि गयी है फिर उसका अनुवाद किया गया है।  इस तर्जुमे मे आयत नंबर नही दिया है क्यौंकी आयत नंबर देने के बाद ये एक सही सीरियल से आपके .MP3 Player कि Playlist मे नही चलेगा। इसीलिये इसे अलग नंबर दिये हुए है लेकिन जहां कोई नया पारा (अध्याय) या नयी सूरह  शुरु हो रही है वहा - वहा उस पारा (अध्याय) सूरह का नाम दिया गया है।

यहां क्लिक करे और डाउनलोड पेज पर जायें


साभार :- इस्लाम और कुरआन

अल्लाह आप सबको कुरआन पढ कर और सुनकर, उसको समझने की और उस पर अमल करने की तौफ़िक अता फ़रमाये।

आमीन, सुम्मा आमीन
Share this article :
"हमारी अन्जुमन" को ज़यादा से ज़यादा लाइक करें !

Read All Articles, Monthwise

Blogroll

Interview PART 1/PART 2

Popular Posts

Followers

Blogger templates

Google+ Followers

Labels

 
Support : Creating Website | Johny Template | Mas Template
Proudly powered by Blogger
Copyright © 2011. हमारी अन्‍जुमन - All Rights Reserved
Template Design by Creating Website Published by Mas Template